rajkot update.news of golden+opportunity+to+invest+jio+ipo

rajkot update.news of golden+opportunity+to+invest+jio+ipo

By • Last Updated

rajkot update.news of golden+opportunity+to+invest+jio+ipo : JIO: निवेश का सुनहरा मौका: इस साल आ सकता है आईपीओ

इस साल फिर आ सकता है Jio का शुरुआती ऑफर, आपके पास है अनुमान लगाने का सुनहरा मौका
Reliance Jio का शुरुआती ऑफर इस साल फिर आ सकता है। आपको बता दें कि 2020 में कोरोना की राशि में जियो ने रु. 1.53 लाख बड़े पूर्णांक एकत्रित किए। शुरुआती ऑफर के लिए साल 2022 और भी बेहतर रहने की उम्मीद है। इकोनॉमिक टाइम्स ने सीएलएसए के हवाले से कहा कि रिलायंस इस साल अपने मध्यम कारोबार को अलग कर जियो एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो जाएगी।

Estimated reading time: 3 minutes

रेटिंग एजेंसी CLSA की तर्ज पर Reliance Jio के शुरुआती ऑफर से मिडिल सेक्टर को बढ़ावा मिल सकता है। इस साल 5G को लेकर काफी ग्रोथ देखने को मिलेगी। CLSA की रिपोर्ट के मुताबिक इस साल 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी की गई है. इसके अलावा रिलायंस जियो का शुरुआती ऑफर वापस आ सकता है।

आपको बता दें कि 2020 में कोरोना की राशि में जियो ने रु. 1.53 लाख बड़े पूर्णांक एकत्रित किए। इन तेरह निवेशकों की Jio में तैंतीस हिस्सेदारी है। फेसबुक के पास दस प्रतिशत, जबकि गूगल के पास आठ प्रतिशत का स्वामित्व है। गूगल ने रुपये जुटाए हैं। 33737 ने बड़े पूर्णांकों के साथ निवेश किया, जबकि फेसबुक ने रु। 43574 ने बड़े पूर्णांक के साथ निवेश किया।


99 अरब मूल्य सीएलएसए ने रिलायंस जियो के लिए 99 अरब डॉलर की एसोसिएट डिग्री एंटरप्राइज वैल्यू तय की है। वहीं, जियो फाइबर कारोबार के लिए उद्यम मूल्य पांच अरब पर अपरिवर्तित रहा है।
टैरिफ में अतिरिक्त लाभ टेलीकॉम कंपनियां आर्थिक दबाव का सामना कर रही हैं। उन पर एजीआर एसेट्स और स्पेक्ट्रम चार्ज का बोझ ज्यादा है।

हालांकि, सरकार ने चार साल की मोहलत दी है। पूरे को अब उन्हें ब्याज देना होगा। मध्यम कंपनियां अपनी वित्तीय स्थिति में सुधार के लिए टैरिफ बढ़ाती हैं। पिछले दो दिनों में Jio, Airtel और Vodafone के प्लान ने अपने टैरिफ में 20-25% की बढ़ोतरी की है।

जियो आईपीओ:

APRU को कम से कम 200 रुपये की आवश्यकता है
क्षेत्र के जानकारों का कहना है कि अगर एपीआरयू यानी यूजर्स की सामान्य आय बढ़ती है तो उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो सकता है। एयरटेल के प्रमुख सुनील मित्तल ने कई मौकों पर कहा है कि अगर मध्यम आकार की कंपनियों को स्थिरता और प्रौद्योगिकी उन्नति पर बहुत अधिक खर्च करने की आवश्यकता है, तो APRU कम से कम रु। बैठना चाहिए। जैसे-जैसे यह बढ़ेगा, मध्यम कंपनियों की वित्तीय स्थिति मजबूत हो सकती है।

Jio 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी के लिए दरों में कमी की आवश्यकता हो सकती है


सीएलएसए का कहना है कि सरकार 5जी स्पेक्ट्रम के वैल्यू बैंड की पुनर्गणना कर सकती है। यदि वह नहीं करती है, तो नीलामी सफल नहीं होगी। 2021 में G 11 बिलियन 4G स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण इस तथ्य की एक प्रस्तावना थी कि दूरसंचार को इसे नवीनीकृत करना था, या क्रय शक्ति के तहत। अगर सरकार 5जी स्पेक्ट्रम के लिए प्रति 100 मेगासाइकिल प्रति सेकेंड 7 अरब डॉलर की रफ्तार की भरपाई नहीं कर पाती तो यह नीलामी सफल नहीं होगी।

Review & Discussion

Comment

x